Wednesday, March 12, 2008

BUDDHA - IN SEARCH OF PEACE // बुद्ध - शांति की खोज में


12 comments:

Myriam Lakshmi said...

Beuat1

venus66 said...

Wonderful work.

नीरा said...

beautiful work

Scorpion King said...

After seeing this painting I can realy feel its beuty & its calmness because painting, poetry, spiritual thoughts etc.. are the arts which can make us feel that we r human beings and living in the beautiful world not in jungle.
Bhoutiktavadi soch ke aage beshak ye saari kalaaein haar jaati hain parantu phir bhi in arts ki vajah se hum swayum ko insaan keh paate hain varna to bhookh insaan ki ho yaa Jaanvar ek si hi hoti hai bas naam aur tareeke hi alag hote hain..

Keep It Up
Amit Kumar Tripathi http://www.anantkiudaan.blogspot.com

Rajat Narula said...

beautiful painting... really good...

ARUNA said...

beautiful art!!

Poonam Agrawal said...

Ek shanti ka anubhav hua aapke blog per aaker.....itni shant abhivyakti.....sundertam....

ज्योति सिंह said...

main bhi kala premi aur isme ruchi bhi hai, is sundar kaarya ke liye aapki sarahana karti hoon .

vandana said...

very nice .............amazing.

महावीर said...

बहुत सुन्दर कलाकृति है. शांत, ध्यानस्थ मुद्रा में भगवान बुद्ध के समक्ष स्वत: ही मस्तक नत हो जाता है: 'बुद्धम् शरणम् गच्छामि'.

pakheru said...

अच्छा चित्रांकन है..स्केच और पेंटिंग्स दोनों ही अपनी जगह बनाती हैं. कृष्ण से प्रभावित हो बन्धु तो बुद्ध का व्यतिक्रम क्यों ? कृष्ण कर्म और प्रेम की अंतर संरचना में सूक्ष्मता से व्याप्त है, बुद्ध विमुखता और पलायन का भाव रचता है, इसीलिए बुद्ध का राजनीतिकरण भी हो सका है. राजनीति में रमते हुए भी कृष्ण आज के राजनीतिज्ञों के इस्तेमाल के बाहर ही ठहरे. भाजपाइयों ने राम को नाथ लिया. कृष्ण को बदनीयती से छू भी पाना उनके बस की बात नहीं है. अपने सृजन का ध्रुव तय करो बन्धु अन्यथा यह वैविध्य नहीं भटकाव माना जाएगा.

शुभ कामनाओं सहित,
अशोक गुप्ता

Krishna Sukumar said...

बहुत खूब!
कृष्ण सुकुमार